crimanal case

498 A

K.M.Sujith vs State Of Kerala on 21 October, 2009

December 28, 2018

IN THE HIGH COURT OF KERALA AT ERNAKULAM CRL.A.No. 1707 of 2005() 1. K.M.SUJITH, … Petitioner Vs 1. STATE OF KERALA. … Respondent For Petitioner :SRI.S.SACHITHANANDA PAI For Respondent :PUBLIC PROSECUTOR The Hon’ble MR. Justice K.BALAKRISHNAN NAIR The Hon’ble MR. Justice P.BHAVADASAN Dated :21/10/2009 O R D E R K. BALAKRISHNAN NAIR & P. BHAVADASAN, […]

Read More
criminal case

Section 498A in The Indian Penal Code

December 28, 2018

[498A. Husband or relative of husband of a woman subjecting her to cruelty.—Whoever, being the husband or the relative of the husband of a woman, subjects such woman to cruelty shall be pun­ished with imprisonment for a term which may extend to three years and shall also be liable to fine. Explanation.—For the purpose of […]

Read More
498 A

IPC 498 A पर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला: दहेज प्रताड़ना मामले में गिरफ्तारी हो या नहीं, अब फिर पुलिस करेगी तय

December 28, 2018

498 A दहेज प्रताड़ना मामलों में सुप्रीम कोर्ट ने बैलेंस बनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे मामलों में गिरफ्तारी हो या नहीं ये तय करने का अधिकार पुलिस को वापस दिया है. आपीसी की धारा 498 A दहेज प्रताड़ना मामलों में सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे मामलों में गिरफ्तारी […]

Read More
abortion law in india

Abortion in India

December 23, 2018

When a woman gets a pregnancy terminated voluntarily from a service provider, it is called induced abortion.Spontaneous abortion is when the process of abortion starts on its own without any intervention. In common language, this is also known as miscarriage. Before 1971 (Indian Penal Code, 1860)[edit] Before 1971, abortion was criminalized under Section 312 of the […]

Read More
ipc

IPC की धाराधारा 504 और 506 पर क्या सजा होती है?

December 22, 2018

IPC यानी INDIAN PENAL CODE में भारत में रहने वाले लोगों के द्वारा किए गए क्राइम को डिफाइन किया गया है और उनके लिए सजा या पनिशमेंट का PROVISION किया गया| IPC को 1860 में ब्रिटिश काल में लागू किया गया था| जम्मू कश्मीर और इंडियन मिलिट्री को छोड़ कर के पूरे भारत में लागू […]

Read More
ipc indian law aam aadmi k liye

आम आदमी के लिए आईपीसी की धारा 307, 308, 323, 324, 325, 326

December 22, 2018

1. आईपीसी सेक्शन 323 आम सी मारपीट जैसे किसी को चांटा मारना, ऐसे मामले की शिकायत थाने में की जा सकती है .लेकिन यह मामला ‘Cognizable offence’ की कैटेगरी में नहीं आता है . इसीलिए पुलिस सीधे FIR दर्ज नहीं करती है | फिर भी शिकायती को चाहिए कि वह पुलिस से शिकायत करें | इस […]

Read More
323

धारा 323 आईपीसी – इंडियन पीनल कोड – जानबूझ कर स्वेच्छा से किसी को चोट पहुँचाने के लिए दण्ड

December 22, 2018

जो भी व्यक्ति (धारा 334 में दिए गए मामलों के सिवा) जानबूझ कर किसी को स्वेच्छा से चोट पहुँचाता है, उसे किसी एक अवधि के लिए कारावास जिसे एक वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या एक हजार रुपए तक का जुर्माना या दोनों के साथ दंडित किया जा सकता है। लागू अपराध जानबूझ कर […]

Read More
false fir

F.I.R से बचाने के लिए //Jhute F.I.R se kaise bachay

December 21, 2018

  How can I come out of the false IPC 354 case? Self defence in Indian law (आत्मरक्षा )

Read More
354 IPC

Vidyadharan Vs. State of Kerala [2003] Insc 562 (14 November 2003)

December 21, 2018

Doraiswamy Raju & Arijit Pasayat. Arijit Pasayat, J Appellant faced trial for alleged commission of offences punishable under Sections 354 and 448 of the Indian Penal Code, 1860 (for short the ‘IPC’) and Section 3 (1) (xi) of the Scheduled Caste and Scheduled Tribe (Prevention of Atrocities) Act, 1989 (for short the ‘Act’). He was […]

Read More
120 N

Section 120B in The Indian Penal Code

December 21, 2018

1[120B. Punishment of criminal conspiracy.— (1) Whoever is a party to a criminal conspiracy to commit an offence punishable with death, 2[imprisonment for life] or rigorous imprisonment for a term of two years or upwards, shall, where no express provision is made in this Code for the punishment of such a conspiracy, be punished in the […]

Read More